India becomes world’s most populated country overpopulation can be bad news for healthcare sscmp | दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश बना भारत, हेल्थ केयर के लिए अधिक जनसंख्या हो सकती है बुरी खबर



India Population: रिपोर्टों के अनुसार चीन को पछाड़कर भारत दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश बन सकता है. विश्व जनसंख्या रिव्यू के अनुसार, 2022 के अंत में भारत की जनसंख्या 141.7 करोड़ थी, जबकि 18 जनवरी तक चीन द्वारा रिपोर्ट की गई संख्या 141.2 करोड़. इसके मुताबिक भारत की जनसंख्या चीन से 50 लाख ज्यादा है. रिपोर्टों के अनुसार, भारत की आबादी का लगभग 50 प्रतिशत हिस्सा 30 वर्ष से कम आयु का है और देश को सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था के रूप में मान्यता दी गई है. विशेषज्ञों के अनुसार, हालांकि भारत की जनसंख्या वृद्धि धीमी हो गई है, यह ऊंचाई 2050 तक जारी रख सकती है.
कथित तौर पर, पिछले साल छह दशकों में पहली बार चीन की आबादी कम हुई. देश ने 1980 में लागू की गई अपनी सख्त एक-बच्चे की नीति (one-child policy) को समाप्त कर दिया है और 2021 में तीन बच्चे पैदा करने की अनुमति दी गई थी. वहीं, अधिक जनसंख्या और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के बीच संबंध बहुत स्पष्ट नहीं है. विशेषज्ञों के अनुसार, विकासशील देशों में तेजी से जनसंख्या वृद्धि से सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं पर बोझ बढ़ने की संभावना है.
अधिक जनसंख्या हेल्थ केयर को कैसे प्रभावित करती है?विकासशील देशों में (जहां संसाधन वितरण में विभाजन पहले से ही व्यापक है) तेजी से बढ़ती जनसंख्या इसे और भी बदतर बना सकती है. यह आबादी के बीच अधिक गरीबी और असमान वितरण का कारण बन सकता है. जनसंख्या स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए मौलिक सुविधाओं जैसे भोजन, पानी और घर सहित संसाधनों को सीधे प्रभावित करती है. इन संसाधनों की अनुपलब्धता या उनका अत्यधिक उपयोग खराब भोजन और पानी की खपत, कई बीमारियों को बढ़ाने में मदद कर सकता है.
हाई पापुलेशन डेंसिटी का अर्थ लोगों के बीच संपर्क में वृद्धि भी है और यह संचारी रोगों के तेजी से फैलने की सुविधा प्रदान कर सकता है और उन्हें आसानी से बेकाबू बना सकता है जैसा कि कोविड महामारी के दौरान देखा गया है. एक बड़ी आबादी भी स्वास्थ्य सुविधाओं के अत्यधिक उपयोग का कारण बन सकती है जैसे अत्यधिक बोझ वाले इमरजेंसी रूम, भीड़भाड़ वाले क्लीनिक और अधिक मरीज का बोझ. 2017 में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, एक प्राथमिक स्वास्थ्य सलाहकार एक मरीज पर औसतन दो मिनट बिताता है. विशेषज्ञों के मुताबिक, अस्पतालों में भीड़भाड़ और मरीजों का बोझ बढ़ने के कारण ऐसा होता है.
Disclaimer: इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है. हालांकि इसकी नैतिक जिम्मेदारी ज़ी न्यूज़ हिन्दी की नहीं है. हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें. हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है.



Source link