बसंत पंचमी पर दिखेगा अलग नजारा, मां सरस्वती संग विराजेंगे प्रभु राम, इन मूर्तियों की बढ़ी डिमांड



अभिषेक जायसवाल/वाराणसी : बंसत पंचमी के महापर्व पर माता सरस्वती की पूजा होती है . हालांकि 2024 में सरस्वती पूजा का नजारा कुछ अलग होगा. इस बार पूजा में राम भक्ति की बयार भी देखने को मिलेगी. मूर्तिकारों ने ऑर्डर के बाद इस बार माता सरस्वती के साथ प्रभु श्रीराम के थीम पर मूर्तियों को तैयार किया है .जिसमे राम दरबार से लेकर रामायण के अलग-अलग प्रसंगों की झांकी देखने को मिल रही है. खास बात यह है कि राम की थीम पर बनी ये मूर्तियां दूसरे आयोजकों को भी लुभा रही है.

वाराणसी के पांडेय हवेली में मूर्तिकार इन खास मूर्तियों को अंतिम रूप दे रहे हैं. सोमवार की देर रात तक यह मूर्तियां फाइनल रूप में पहुंच जाएंगी और फिर 13 फरवरी को इन्हें पंडालों तक पहुंचाया जाएगा. वाराणसी के गंगापुर, अस्सी और चेतगंज के अलावा खोंजवा में राम दरबार वाली माता सरस्वती भक्तों को दर्शन देंगी.

5 थीम पर बनी है मूर्तियांपांच पीढ़ियों से मूर्ति तैयार कर रहें मूर्तिकार चितरंजन पाल ने बताया कि इस बार प्रभु श्री राम के थीम पर 5 अलग-अलग मूर्तियां तैयार की गई है. जिसमें राम दरबार के साथ रामेश्वर शिवलिंग की स्थापना और रथ पर विराजे प्रभु श्रीराम की झांकी दिखाई दे रही है. इसके अलावा माता सरस्वती के प्रतिमा के ऊपर बड़ा सा प्रभु श्री राम की प्रतिमा भी बनी है.

गंगापुर में सजेगा राम दरबारउदय प्रताप पाल ने बताया कि रोहनिया के गंगापुर में इस बार राम दरबार वाली माता सरस्वती की प्रतिमा स्थापित होगी. जिसमे प्रभु श्री राम मात सीता,लक्ष्मण और हनुमान जी माता सरस्वती के साथ नजर आएंगे.
.Tags: Local18, Uttar Pradesh News Hindi, Varanasi newsFIRST PUBLISHED : February 12, 2024, 12:22 IST



Source link