Success Story : आत्मनिर्भरता की मिसाल बनी ” सुधा अचार वाली ”  साल भर में बेच दिया 15 लाख का आचार



प्रयागराज : 5 जी के दौर वाली स्पीड से प्रयागराज की महिलाएं आत्मनिर्भरता की इबारत बखूभी लिख रही हैं. रेशम चाय वाली, ” विश्वविद्यालय की चाची चाय” के बाद अब ” सुधा के अचार ” ने कीर्तिमान गढ़ा है. प्रयागराज के शिवकुटी में रहने वाली सुधा ने साल भर के भीतर 15 लाख रुपए का आचार देश भर में बेच दिया है.सुधा एक साल से स्वादिष्ट अचार बनाने का काम करती हैं. वह कैमिकल रहित 11 प्रकार के स्वादिष्ट अचार बनाती हैं. देश के कोने-कोने तक उनके आचार का जायजा लेने वाले ग्राहक मौजूद हैं. खास बात यह है कि वह किसी भी मशीनरी का भी उपयोग नहीं करतीं है बल्कि अपने हाथों से अचार का निर्माण करती हैंकोरोना काल के दौरान जब सारी दुनिया पर आर्थिक संकट का खतरा मंडरा रहा था. तो उसी वक्त सुधा ने फैसला लिया कि अब आत्मनिर्भर के क्षेत्र में खुद का काम करना है. सुधा ने बताया कि अचार का व्यापार शुरू करने के लिए मैंने अपने पति से चर्चा किया, उन्होंने बिना समय गवाएं ही इस पर काम करने के लिए हामी भर दी.हलांकि हमारे पास इतनी धनराशि नहीं थी की एक बड़ा व्यापार शुरू कर सकें. इसलिए 50000 से यह धंधा शुरू किया. धीरे-धीरे ग्राहकों की भीड़ जुड़ती गई और मुनाफे में बढ़ोतरी होने लगी. आज देश के कई राज्यों के लोग हमारे अचार का ज़ायका बड़े शौक से लेते हैं.सुधा के अचार उद्योग में 5 सदस्य टीम है. अचार बनाने से लेकर लोगों के घर तक पहुंचाने का काम इन्हीं के माध्यम से होता है. सोशल मीडिया के माध्यम से उनका व्यापार बढ़ता है. ग्राहक उनके दिए गए नंबर से संपर्क करते हैं और उनके आचार को खरीदते हैं. अच्छा लगने पर यह मांग बढ़ती जाती है.ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|FIRST PUBLISHED : January 23, 2023, 19:46 IST



Source link