Prayagraj News: जानिए कैसे मदन मोहन मालवीय ने बनाया ‘तेज बहादुर सप्रू’ को कानून का महापंडित, प्रयागराज से है गहरा नाता



रिपोर्ट :अमित सिंह

प्रयागराज . यूपी के के बेली चौराहे पर तेज बहादुर सप्रू नामक अस्पताल है. जहां प्रयागराज सहित अन्य जिलों के करीब 1000 से अधिक मरीज रोजाना इलाज के लिए आते हैं. ऐसे में हमने अस्पताल में कई लोगों से तेज बहादुर के बारे में पूछा, जिसे बताने में लोग असहज हुए. ऐसे में हम आपको स्वंत्रता सेनानी और इलाहाबाद हाईकोर्ट के सर्वाधिक तेज तर्रार वकील रहे “सर तेज बहादुर सप्रू” के बारे में बता रहे हैं.

इलाहाबाद यानी प्रयागराज से उनका बहुत गहरा रिश्ता रहा है. इतिहास विभाग के शोधार्थी रणविजय शर्मा ने बताया कि अलीगढ़ में जन्मे सप्रू ने पंद्रह साल की उम्र में मैट्रिक की परीक्षा पास की और आगरा कालेज में दाखिल हुए. पढ़ाई-लिखाई में वह बहुत तेज थे. बीए आनर्स, एमए, एलएलबी में प्रथम रहे.

आपके शहर से (इलाहाबाद)

उत्तर प्रदेश

UP Board 12th English: यूपी बोर्ड 12वीं अंग्रेजी पेपर कैसा आएगा? यहां समझें मार्किंग स्कीम

भोजपुरी में पढ़ें – माघ मेला के परम आनंद, गंगा स्नान आ कल्पवास

Prayagraj News: माघ मेले में संगम किनारे बसाई गई टेंट सिटी, एक रात का चार्ज 5 हजार, जानें खूबी

धर्म सेंसर बोर्ड की गाइडलाइन जारी, जानें कौन है मेंबर, कैसे करेगा काम?

UP Board 12th Hindi Exam: यूपी बोर्ड 12वीं हिंदी पेपर की तैयारी कैसे करें? चेक करें मार्किंग स्कीम

सनातन धर्म को अपमानित करने वाले सिनेमा, सीरियल बनाया तो एक्शन लेगा धर्म सेंसर बोर्ड, जानें पूरी खबर

Magh Mela: हाथ में त्रिशूल, भाला व वॉकी-टॉकी, ये हैं 14 अखाड़ों के कोतवाल, क्या है इनका काम और क्यों?

Mahakumbh 2025: महाकुंभ 2025 का ब्‍लूप्रिंट हो रहा तैयार, चलेंगी सुरफास्‍ट ट्रेनें, तेज बनेंगी सड़कें, जानें हर डिटेल…

प्रयागराज के 216347 किसानों को KYC नहीं कराना पड़ा भारी, अब नहीं मिलेगी PM किसान सम्मान निधि राशि

Prayagraj news: यहां हैं 54 फीट के हनुमानजी, दर्शनों के लिए लगती है भीड़, जानें महिमा  

ज्ञानवापी में मिले कथित शिवलिंग की कार्बन डेटिंग होगी या नहीं, इलाहाबाद हाईकोर्ट में सुनवाई आज

उत्तर प्रदेश

मालवीय जी के कारण सप्रू को आना पड़ा प्रयाग तेजबहादुर कालेज के दिनों से ही वाद-विवाद में काफी तेज थे, पर जब मुरादाबाद में उन्होंने वकालत आरंभ की,तो कुछ खास कामयाबी हासिल नहीं हुई.उन्हीं दिनों मदनमोहन मालवीय मुरादाबाद आए थे. उनकी पैनी दृष्टि युवक सप्रू पर पड़ी. वह उन्हें अपने साथ इलाहाबाद ले गए.

मालवीय जी इलाहाबाद के नामी वकीलों में थे. उनके पास मुकदमों की कमी नहीं थी. अतः उन्होंने कुछ मुकदमे सप्रू साहब को भी देने आरंभ किए.यहीं से सप्रू साहब का उत्थान प्रारंभ हुआ . फिर क्या था, एक बार उनकी प्रतिभा जो चमकी, तो अंत तक चमकती ही रही.कुछ ही समय बाद वह मोतीलाल नेहरू आदि की बराबरी के वकील हो गए. कानून के महापंडितों में उनका नाम आ गया. कई नामी मुकदमों में उन्होंने अपनी असाधारण योग्यता का परिचय भी दिया.

वकालत के अलावा भी कई महत्वपूर्ण भूमिका निभाई सप्रू ,”द लीडर”नामक समाचार पत्र से जुड़े थे. लीडर एक अंग्रेजी पत्र था. जिसका प्रारंभ महामना मदन मोहन मालवीय ने ‘अभ्युदय’के पश्चात् 24 अक्टूबर, 1910 को किया था.सप्रू ने अपना राजनीतिक करियर वर्ष 1913 से शुरू किया. 1913 से 1916 के बीच सप्रू संयुक्त प्रान्त लेजिस्लेटिव काउंसिल के सदस्य रहे. 1916 से 1920 के बीच वह इम्पीरियल लेजिस्लेटिव काउंसिल के सदस्य रहे और 1920 से 1923 के दौरान वह वायसराय की काउंसिल में लॉ मेंबर रहे.
ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|Tags: Allahabad news, Uttar Pradesh News HindiFIRST PUBLISHED : January 20, 2023, 15:02 IST



Source link