indian cricketer ravindra jadeja breaks silence on his father allegations said ignore scripted interviews | जडेजा की पत्नी ने घर में किया कलेश? पिता के बयान पर क्रिकेटर ने तोड़ी चुप्पी; बताई सच्चाई



Ravindra Jadeja Father Allegations: भारतीय ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा ने अपने सोशल मीडिया हैंडल पर एक पोस्ट शेयर किया है, जिसमें उन्होंने अपने पिता द्वारा लगाए गए आरोपों पर खुलकर लिखा है. हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान जडेजा के पिता ने कहा था, ‘मेरा जडेजा और उसकी पत्नी रिवाबा से बिल्कुल भी कोई संबंध नहीं है. हम उन्हें नहीं कॉल नहीं करते और वे भी हमें कॉल नहीं करते. समस्याएं उनकी शादी के दो या तीन महीने बाद शुरू हुईं.’ इसी पर जडेजा ने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए से अपने बात रखी है. बता दें कि जडेजा इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज का हिस्सा हैं. पहले मैच में चोटिल होने के बाद दूसरे मैच से वह बाहर थे. बचे हुए तीन मैचों के स्क्वॉड में उनके शामिल होने की संभावना है.
जडेजा ने किया पोस्टरवींद्र जडेजा ने पिता द्वारा दिए गए बयान पर एक पोस्ट शेयर किया है, जिसके कैप्शन में उन्होंने लिखा, ‘स्क्रिप्टेड इंटरव्यूज में कही गई बातों को नज़रअंदाज़ करें.’ इस पोस्ट में जडेजा ने लिखा, ‘इंटरव्यू में बताई गई बातों का कोई मतलब नहीं और झूठी हैं. वे एकतरफा टिप्पणियां हैं जिनका मैं नकारता हूं. मेरी पत्नी की छवि को खराब करने का प्रयास अनुचित एवं निंदनीय है. मुझे भी बहुत कुछ कहना है लेकिन बेहतर होगा कि मैं उन बातों का पब्लिकली खुलासा न करूं.’
पिता ने जडेजा की पत्नी पर लगाए आरोप  
जडेजा के पिता ने एक इंटरव्यू में कहा था, ‘वह मेरा बेटा है, और इससे मेरा दिल जलता है. काश उसने शादी न की होती. अच्छा होता अगर वह क्रिकेटर न बनता. ऐसे में हमें ये सब नहीं झेलना पड़ेगा. शादी के तीन महीने के भीतर ही उसने मुझसे कहा कि सब कुछ उसके नाम पर कर दिया जाए. उसने(रिवाबा) हमारे परिवार में दरार पैदा कर दी. वह परिवार नहीं चाहती थी और स्वतंत्र जीवन चाहती थी. मैं गलत हो सकता हूं और नयनाबा (रवींद्र की बहन) गलत हो सकती हैं, लेकिन आप मुझे बताएं, हमारे परिवार के सभी 50 लोग गलत कैसे हो सकते हैं? परिवार में किसी से कोई रिश्ता नहीं है. सिर्फ नफरत है.’
‘पोती का नहीं देखा है चेहरा’
जडेजा के पिता ने बयान में आगे कहा, ‘मैं फिलहाल जामनगर में अकेला रहता हूं, जबकि रवींद्र अपने अलग बंगले में रहते हैं. वह उसी शहर में रहता है, लेकिन मैं उससे नहीं मिल पाता. पता नहीं उसकी बीवी ने उस पर क्या जादू किया है. मैं कुछ भी छुपाना नहीं चाहता. हमने पांच साल में अपनी पोती का चेहरा भी नहीं देखा है. रवींद्र के ससुराल वाले सब कुछ संभालते हैं. वे हर चीज में दखल देते हैं. वे अब मौज-मस्ती कर रहे हैं.’



Source link