Ajab-Gajab: मिलिए दरियागंज के बाबाजी से, चाहते हैं लिम्का बुक में दर्ज हो पैर का अंगूठा छूती उनकी दाढ़ी



प्रयागराज. माघ मेले में एक बाबा की दाढ़ी यहां आने जाने वालों को अच्छा खासा आकर्षित कर रही है. पैर के अंगूठे को छू रही दाढी के बारे में बाबा ने बताया कि वह पिछले दस सालों से इसकी देखभाल कर रहे हैं. असल में अध्यात्म की नगरी प्रयागराज में माघ मेला प्रगति पर है. कुंभ मेले की तरह इस मेले में भी देश के कई प्रदेशों से आए तमाम साधु संत देखने को मिलते हैं. ऐसे में कई के रूप रंग और भंगिमाएं चर्चा में आ जाती हैं. कुछ ऐसे ही हैं 5 फीट की दाढ़ी वाले बाबा जी, जो माघ मेले में आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं. दरियागंज में रहने वाले इस बाबा का असली नाम बाबा जी ही है.बाबाजी ने कहा दाढ़ी बढ़ने की प्रकिया साधारण है. मैं इसे साधारण रूप में ही देखता हूं. मैं ऐसा बिल्कुल नहीं चाहता कि लोग मुझे अटेंशन दें. सतुआ बाबा से मिलने मेले में आए बाबा ने कहा वह जीवन भर अपनी दाढ़ी नहीं कटवाएंगे. मुझे अपनी दाढ़ी से कोई तकलीफ नहीं है. एक बात जरूर है कि इसकी देख रेख के लिए अतिरिक्त समय खर्च करना पड़ता है. कम से कम 3 घंटा रोजाना इसके लिए देना पड़ते हैं.
प्रयागराज के दरियागंज वाले बाबा जी लिम्का बुक और गिनीज बुक में अपना नाम दर्ज करवाना चाहते हैं. उन्होंने बताया इसके लिए प्रकिया भी उन्होंने शुरू कर दी है. बाबाजी ने कहा अगर सब कुछ समय के अनुकूल रहा तो लिम्का और गिनीज बुक में मेरा नाम पहले नंबर पर होगा. अपने देश का नाम हमेशा नंबर वन पर होना चाहिए उसी के लिए सदैव प्रयासरत हूं.ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|FIRST PUBLISHED : January 18, 2023, 15:57 IST



Source link