high Uric Acid: 5 leafy vegetables will help to lower down uric acid level you will get relief from joint pain | Uric Acid: ये 5 पत्तेदार सब्जियां कभी बढ़ने नहीं देंगे यूरिक एसिड का लेवल, जोड़ों के दर्द से मिलेगा आराम

[ad_1]

Food for high uric acid: यूरिक एसिड एक अपशिष्ट पदार्थ है जो हमारे शरीर में प्रोटीन के टूटने से बनता है. यह आमतौर पर हमारे खून में घुल जाता है और किडनी के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाता है. हालांकि, कुछ लोगों में, यूरिक एसिड का स्तर बढ़ जाता है, जिससे गठिया और अन्य स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं.
गठिया यूरिक एसिड के स्तर में वृद्धि से होने वाली एक आम स्वास्थ्य समस्या है. गठिया में, यूरिक एसिड क्रिस्टल जोड़ों में बन जाते हैं, जिससे दर्द, सूजन और लालिमा हो सकती है. गठिया आमतौर पर पैर के अंगूठे के जोड़ को प्रभावित करता है, लेकिन यह अन्य जोड़ों को भी प्रभावित कर सकता है. हालांकि, खानपान में बदलाव करके इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है. आज हम आपको 5 ऐसी पत्तेदार सब्जियों के बारे में बताएंगे, जो यूरिक एसिड की समस्या से राहत दिला सकते हैं.
पालकपालक एक पौष्टिक और स्वादिष्ट सब्जी है जो विटामिन, मिनरल और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती है. पालक में विटामिन सी और फाइबर की मात्रा अधिक होती है, जो यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में मदद कर सकते हैं.
शतावरीशतावरी एक स्वादिष्ट और पौष्टिक सब्जी है, जो यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में मदद कर सकती है. शतावरी में फाइबर, विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा अधिक होती है.
पुदीनापुदीना एक सुगंधित और स्वादिष्ट जड़ी बूटी है जो यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में मदद कर सकती है. पुदीने में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो शरीर को यूरिक एसिड के नुकसान से बचाने में मदद कर सकते हैं.
कालेकाले के पत्ते पोषक तत्वों का एक पावरहाउस है, जिसमें प्यूरीन की मात्रा बेहद कम होती है. यह सब्जी जरूरी विटामिन, मिनरल्स और एंटीऑक्सीडेंट प्रदान करती है. अगर आप अपने यूरिक एसिड लेवल के मैनेज करना चाहते हैं तो इसका सेवन कर सकते हैं.
बोक चॉयबोक चॉय एक कम प्यूरीन वाली सब्जी है, जिसे चीनी गोभी भी कहते हैं. यह विटामिन और मिनरल्स की अच्छी खुराक प्रदान करती है.
Disclaimer: प्रिय पाठक, हमारी यह खबर पढ़ने के लिए शुक्रिया. यह खबर आपको केवल जागरूक करने के मकसद से लिखी गई है. हमने इसको लिखने में घरेलू नुस्खों और सामान्य जानकारियों की मदद ली है. आप कहीं भी कुछ भी अपनी सेहत से जुड़ा पढ़ें तो उसे अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

[ad_2]

Source link