टीम इंडिया में नहीं चुने जाने पर टूट गया ये खिलाड़ी! अपने इस बयान से BCCI को चौंकाया| Hindi News

[ad_1]

Team India Cricketer: भारतीय टीम के स्विंग गेंदबाज दीपक चाहर चोट से उबर कर पूरी तरह से फिट हैं और टीम इंडिया में बुलावे का इंतजार कर रहे हैं. दीपक चाहर ने मंगलवार को दिल्ली में अपने नए ब्रांड ‘डीनाइन’ के लॉन्च के मौके पर कहा कि हर क्रिकेटर की तरह उनका सपना भी भारत के लिए वर्ल्ड कप जीतना है. भारत के लिए 37 मैच (13 वनडे और 24 टी20) खेल चुके इस खिलाड़ी ने कहा, ‘मैं पूरी तरह से फिट हूं और टीम इंडिया में वापसी के लिए कोशिश कर रहा हूं. मैंने हाल ही आरपीएल (राजस्थान प्रीमियर लीग) टूर्नामेंट खेला है. रविवार तक मैं राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में था. भारतीय टीम एशियाई खेलों के लिए चीन जा रही है, मैं उनके साथ अभ्यास कर रहा था.’
टीम इंडिया में नहीं चुने जाने पर टूट गया ये खिलाड़ी!अपने अंतरराष्ट्रीय करियर के दौरान ज्यादातर समय तक चोट के कारण टीम से बाहर रहने वाले दीपक का मानना खिलाड़ी को निराश होने की जगह ऐसी परिस्थितियों के लिए तैयार रहना चाहिए. भारत के लिए दिसंबर 2022 में अपना पिछला मैच खेलने वाले 31 साल के इस गेंदबाज ने कहा, ‘एक खिलाड़ी के लिए निराश होना अच्छा नहीं होता. जो चीज आपके हाथ में नहीं है उसे आप नियंत्रित नहीं कर सकते हैं. मेरे हाथ में फिट रहना और टीम के लिए उपलब्ध रहना है. मैं उस मामले में तैयार हूं और जब भी मौका मिलेगा टीम के लिए शत प्रतिशत दूंगा.’
अपने इस बयान से BCCI को चौंकाया
दीपक चोट के कारण भारतीय टीम से बाहर हुए और आगामी वर्ल्ड कप तथा एशियाई खेलों की टीम में उन्हें जगह नहीं मिली है. उन्होंने कहा, ‘चोट के कारण मेरा करियर काफी प्रभावित हुआ है. खिलाड़ियों का चोटिल होना उनकी शरीर के प्रकार पर भी निर्भर करता है. कुछ लोग कम चोटिल होते हैं, लेकिन मैं अपनी तरफ से सब कुछ करने के बाद भी ज्यादा चोटिल होता हूं. मैं खान-पान, अभ्यास और प्रशिक्षण पर पूरा ध्यान देता हूं. मेरे मामले में यह भी कह सकते है कि मेरा समय खराब चल रहा था. पिछले साल मेरे पीठ में चोट लगी और तेज गेंदबाज के लिए यह काफी खतरनाक होता है, लेकिन अब मैं पूरी तरह से फिट हूं. मैं इस समय अपनी गेंदबाजी से काफी खुश हूं.’
‘धोनी मुझे छोटा भाई मानते हैं’
गेंदबाजी के साथ निचले क्रम में बल्लेबाजी के लिए जाने-जाने वाले दीपक लंबे समय से इंडियन प्रीमियर लीग में महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई वाली टीम चेन्नई सुपर किंग्स के सदस्य है. वह धोनी के चहेते खिलाड़ियों में से एक हैं. उन्होंने कहा, ‘मैं काफी किस्मत वाला हूं कि माही भाई के साथ इतना समय बिताने का मौका मिला. मैं पिछले कई सालों से उनके साथ खेल रहा हूं. मैं उनको बड़ा भाई मानता हूं और उन्हें अपना आदर्श खिलाड़ी मानता हूं. वह मुझे छोटा भाई मानते हैं. एक खिलाड़ी और इंसान के तौर पर उनकी काफी इज्जत करता हूं. उनसे काफी कुछ सीखा है.’
हर क्रिकेट खिलाड़ी का सपना होता है वर्ल्ड कप खेलना
भारत के लिए वनडे में 13 और टी20 में 29 विकेट लेने वाले इस गेंदबाज ने कहा ने कहा कि वह आम तौर पर अपने पहले टूर्नामेंट में खिताब जीतते हैं और आने वाले समय में अगर किसी वर्ल्ड कप में भारतीय टीम के लिए चुने जाते हैं तो उन्हें फिर से किस्मत का साथ मिलने की उम्मीद है. उन्होंने कहा,‘हर क्रिकेट खिलाड़ी का सपना होता है वर्ल्ड कप खेलना और भारत के लिए इसे जीतना. जब भी मुझे मौका मिलेगा मैं इसे पूरा करने की कोशिश करूंगा. मेरा साथ यह कई बार हुआ है कि जब मैंने किसी टूर्नामेंट में पहली बार भाग लिया तो टीम चैंपियन बनी है. 2018 में भारतीय टीम ने एशिया कप का खिताब जीता था तब मैं टीम में था. आईपीएल में छह सत्र में पांच फाइनल खेल चुका हूं और तीन बार चैम्पियन बना हूं. आरपीएल के पहले सत्र में मेरी टीम जीती थी.’
इन जूतों को आईपीएल के दौरान धोनी ने भी आजमाया
दीपक चाहर ने कहा, ‘अभी तक वर्ल्ड कप नहीं खेला हूं और जब भी वर्ल्ड कप खेलूं तो टीम की जीत में मेरा योगदान हो. जब भी मौका मिलेगा अपना सब कुछ झोक दूंगा. देश के लिए वर्ल्ड कप जीतना हर खिलाड़ी का सपना होता है.’ उन्होंने कहा कि क्रिकेट में गेंदबाज को चोटिल होने से बचाने में जूतों का काफी अहम योगदान होता है उन्होंने खेल पोशाक की अपनी कंपनी शुरू की है जिसमें कम कीमत में आरामदायक जूतों को तैयार करने पर ध्यान दिया जा रहा है. इन जूतों को तैयार करने में महेंद्र सिंह धोनी और कई अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों का सुझाव भी लिया गया है. उन्होंने कहा, ‘गेंदबाजों के जूते काफी महंगे होते है, इसलिए मैंने कम कीमत में ऐसे जूते तैयार किए हैं तो आरामदायक हो और चोटिल होने से बचाएं. इन जूतों को आईपीएल के दौरान धोनी ने भी आजमाया है और इसमें उनके सुझाव को भी ध्यान रखा गया है.’
(इनपुट – पीटीआई)

[ad_2]

Source link