Thalaivii Review: Kangana Ranaut brought alive Jayalalithaa’s journey from films to politics | Thalaivii Review: फिल्मों से लेकर राजनीति के सफर को Kangana Ranaut ने कर दिया जीवंत!

[ad_1]

नई दिल्ली: बॉलीवुड ‘क्वीन’ के नाम से मशहूर एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) की मोस्ट अवेटेड फिल्म ‘थलाइवी’ (Thalaivii) शुक्रवार को सिनेमाघरों में दस्तक देने के लिए तैयार है. ये बिग बजट फिल्म साउथ की एक्ट्रेस से पॉलिटिशियन बनीं जे जयललिता (J. Jayalalithaa) की बायोपिक है. तमिलनाडु की दिवंगत पूर्व मुख्यमंत्री जे. जयललिता (J. Jayalalithaa) को लोग अम्मा के नाम से जानते हैं. फिल्म को लेकर दर्शकों के मन में काफी उत्सुकता है, तो एक यहां जानिए कि कैसी है कंगना की ये फिल्म ‘थलाइवी’ (Thalaivii Review)…
कास्ट: कंगना रनौत, अरविंद स्वामी, भाग्यश्री, जीशू सेनगुप्ता, पूर्णा, राज अर्जुन, थंबी रमैयाशर्मा कासिम, मधु बाला, विद्या प्रदीप, निर्देशक: ए.एल. विजयकहां: सिनेमाघर और नेटफिलिक्स व अमेजन प्राइमरेटिंग: 3.5
कंगना ने लगाई पूरी दम
जे. जयललिता (J. Jayalalithaa) का जीवन किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं रहा. लंबे समय तक सिनेमा स्क्रीन पर राज करने वालीं जे. जयललिता (J. Jayalalithaa) ने राजनीति में एंट्री ली तो उनका सफर मुश्किलों से भरा था. इस पूरे संघर्ष से लेकर सफलता की कहानी को बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) ने इस फिल्म में पर्दे पर उतारने के लिए जी जान से मेहनत की है. 
क्या है फिल्म की कहानी?
वैसे तो पहली नजर में हर बायोपिक की तरह ये कहा जाना आसान है कि जे. जयललिता (J. Jayalalithaa) का जीवन हर इंसान के सामने खुली किताब की तरह है, तो कहानी कैसी? लेकिन फिल्म में जयललिता के जीवन के उन सभी पहलुओं को छूने की कोशिश की गई है जो शायद आम लोगों से कुछ अनदेखे रह गए. फिल्म की कहानी एक ऐसी लड़की (Kangana Ranaut) से शुरू होती है, जो एक नॉन-सीरियस एक्ट्रेस है. जी हां! वहीं नॉन सीरियस एक्ट्रेस जो देश की सबसे दमदार महिला पॉलिटिशियन बनकर उभरीं. इस दमदार महिला ने कई लोगों की मां बनने का जिम्मा उठा लिया, नतीजन लाखों लोग इन्हें प्यार से अम्मा कहकर पुकारते थे. इस कहानी में जयललिया के रील लाइफ हीरो एमजी रामचंद्रन (MG Ramachandran), के बिना शर्त वाले साथ की कहानी को भी बखूबी पिरोया गया है. ये भूमिका अरविंद स्वामी (Arvind Swamy) ने निभाई है. फिल्म और रियल लाइफ में जयललिता और एमजी रामचंद्रन की केमिस्ट्री को बहुत प्यारे अंदाज दिखाया गया है. लेकिन कैसे समय आगे बढ़ता है और चुलबुली हंसमुख जयललिता कब अम्मा बनती हैं ये कहानी दिल को छू लेती है. अम्मा का अपना पारिवारिक जीवन जिस तरह से दिखाया गया है वह भी काफी बेहतरीन है. 
क्या है फिल्म की कहानी?
फिल्म की कहानी एक ऐसी लड़की (Kangana Ranaut) से शुरू होती है, जो एक नॉन-सीरियस एक्ट्रेस है. वो एक्ट्रेस है जे. जयललिता. जयललिता के एक नॉन-सीरियस एक्ट्रेस से लेकर देश की एक शक्तिशाली महिला बनने की कहानी को दर्शाया गया है. एक ऐसी शक्तिशाली महिला जिसे लोगों का खूब प्यार मिला. लोगों ने इन्हें प्यार से अम्मा कहकर बुलाया. फिल्म में जयललिता के संघर्ष से लेकर तमिलनाडु के लोगों के लिए अम्मा बनने तक के ट्रासफॉर्मेश को दिखाया गया है. इसमें सबसे ज्यादा साथ मिला जयललिया को अपने रील लाइफ हीरो एमजी रामचंद्रन (Arvind Swamy) का. फिल्म में जयललिता और एमजी रामचंद्रन की केमिस्ट्री को बहुत ही खूबसूरती से दिखाया गया है.
क्यों देखें कंगना की फिल्म
एक बढ़िया बायोग्राफी में वैसे तो जे. जयललिता (J. Jayalalithaa) के जीवन के सभी अंश दिखाए हैं. लेकिन जब भी कोई आम इंसान किसी महान व्यक्तित्व में बदलता है तो उसकी कहानी, उसके संघर्ष को देखना भी काफी रोचक हो जाता है. फिल्म में कंगना रनौत ने काफी बेहतरीन अभिनय से एक बार फिर पर्दे पर उस दौर के सिनेमा को जीवंत कर दिया है. फिल्म देखते हुए कभी-कभी ऐसा मेहसूस होता है कि यह फिल्म कंगना रनौत के करियर की अभी तक की सबसे चुनौतीपूर्ण फिल्म है. उनके साथ ही बाकी सभी कलाकार भी काफी परफेक्ट एक्टिंग करके दिल जीत लेते हैं. फिल्म के डायलॉग, सेट्स और डायरेक्शन सभी पर काफी मेहनत की गई है. ये फिल्म देखकर आपको ठगा मेहसूस नहीं होगा.
इसे भी पढ़ें: Palak Tiwari ने चुस्त ड्रेस में दिखाईं बोल्ड अदाएं, VIDEO पर मर-मिटे फैंस
एंटरटेनमेंट की लेटेस्ट और इंटरेस्टिंग खबरों के लिए यहां क्लिक कर Zee News के Entertainment Facebook Page को लाइक करें

[ad_2]

Source link